आज भी उसके चीखने के आवाजें आती हैं

पुणे के एक किले में आज भी एक राजकुमार का प्रेत लोगों से बचाने को चीखता चिल्लाता है. लोग कहते हैं कि इस राजकुमार को इसी शनिवारवाडा किले में मार दिया गया था. तब से रात में उसके चीखने चिल्लाने की आवाजें आती हैं जिसमे वह अपने काका को खुद को बचाने के लिए पुकार …

More

वह समुद्र जो कभी अकेला नहीं होता

भारत की सबसे भुतिया जगहों में एक ऐसा स्थान भी है जो न कोई किला है और न ही कोई महल, वह एक समुद्र का किनारा है – डुमास बीच, जो सूरत में स्थित है और अरब सागर का किनारा है. इस बीच पर जाने वाले बहुत सारे लोगों ने कहा है कि उन्होंने कई …

More

वह जंगल जो प्रेतात्माओं से भरा है

भारत की सबसे डरावनी जगहों के बारे में जब भी बात होगी, तो डाऊ हिल की बात जरुर होगी. इसके आस-पास के जंगल बहुत सारी हत्याओं के लिए कुख्यात रहे हैं. आज भी इन जंगलों में उन लोगों की आत्माएं भटकती हैं जिन्हें जिन्हें इन जंगलों में मार दिया गया. डाऊ हिल दार्जीलिंग में स्थित …

More

अगर आपके टीचर को ब्लूटूथ और जीन्स में अंतर नहीं पता तो इसमें बच्चों का क्या दोष ?

अभी हाल ही में केरल के कन्नूर में एक घटना हुई. घटना कुछ यूँ थी कि NEET परीक्षा देने आई छात्राओं को अपनी जीन्स और अन्तःवस्त्र बदलकर परीक्षा देनी पड़ी. कारण यह था कि शिक्षकों को शक था कि इन कपड़ों में लगे मेटल के बटन इत्यादि में कोई इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस हो सकता है जिससे …

More

Some Scary Facts About Dreams… | सपनों की कुछ डरावनी बातें…

सपने हम सभी देखते हैं | सोते हुए भी और जागते हुए भी | जागते हुए सपने देखना यानि अपनी जिंदगी की प्लानिंग करना तो एक अलग बात है पर सोते हुए सपने देखने की एक अलग दुनिया है | सोते हुए हम कभी अच्छे सपने देखते हैं कभी बुरे | पर सपने आते क्यूँ …

More

लखनऊ में छिपा था आतंकी सैफुल्ला, ऐसे हुआ एनकाउंटर

लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में यूपी एटीएस ने संदिग्ध आतंकी सैफुल्ला को एनकाउंटर में मंगलवार रात को मार गिराया। लेकिन पुलिस इस आतंकी को जिंदा पकड़ने में कामयाब नहीं हो पाई। पुलिस ने इसे पकड़ने के लिए हर तरह की कोशिशें की। आतंकी सरेंडर कर दे इसके लिए पुलिस ने अपील के साथ टियर गैस …

More

कोई तो रिश्ता

पढाई के वक़्त अगर कोई डिस्टर्बेंस पैदा करता है तो इच्छा होती है कि उसका मुंह नोच लूं. ऐसी ही इच्छा तब हुई जब मुझे कमरे के बाहर शोर सुनाई दिया. मन खिसिया गया. अगर उस समय मेरे पास बन्दूक होती तो अवश्य मैं हवाई फायर करके उस शोर को समाप्त करने की कोशिश करता. …

More

अब तक तो जो भी दोस्त मिले

प्रेमचंद आज बहुत उदास था. रात के दस बजे भी लाइट नहीं जलाई थी. टेप रिकॉर्डर पर गाना बज रहा था – ‘दिल की ये आरजू थी कोई दिलरुबा मिले…’ आँखों में आंसू थे. शायद अभी भी किसी का इंतज़ार था. कई सिगार ख़त्म हो चुके थे. अगली सिगार जैसे ही सुलगने वाली थी कि …

More

उन्नीसवां इश्क

इश्क तो आखिर इश्क ही है. जाने कब, कैसे हो जाये. इसमें न तो उम्र की सीमा होती है और न जन्मों का बंधन होता है. इसके लिए सिर्फ एक सनम का होना आवश्यक बताया गया है. सनम ढूँढना भी नहीं पड़ता, एक नज़र में मिल जाता है. आगे कहा गया है कि इश्क किया …

More

फूल खिलना बाकी है

यकीन नहीं होता कि फोन पर दिए गए एक सन्देश ने मेरी दुनिया बदल दी है. कल तक मुझे ज़िन्दगी हसीन लगती थी, आज भारी लगने लगी है. कल का ही दिन था जब वह मुझे छोड़कर गया था. जाते समय पूछा – ‘फिर मिलेंगे न?’ मैं उसे कोई जवाब नहीं दे पाई. हाँ, मेरे …

More